Wednesday, September 11, 2013

मुखौटे

                            मैं झूठ नहीं, फरेब नहीं फिर भी,
                                 मेरे कई चेहरे हैं,
                            कुछ लिपे पुते से, कुछ विभत्स,
                            और मेरा हर चेहरा,सच मानो
                                उतना ही सच्चा है....
                          मैं मौका देख कर गिरगिट की तरह,
                                 रंग नहीं बदलती,
                            ढल जाती हूँ एक नए मुखौटे मे,
                                 हर बार,पूरी तरह से,
                              अपना लेती हूँ नया चेहरा,
                                 उसी आत्मीयता से.....
                                ओढ़ लेती हूँ हर बार,
                                 एक नया अस्तित्व,
                            ताकि जी सकूँ मैं वही एक जीवन,
                           नयी पहचान के साथ, कई कई बार.....
                             मेरे मन के भीतर एक कमरा है,
                              जो जितना अंदर उतरता है
                             उससे कुछ कम बाहर खुलता है,
                        यहाँ इंसान नहीं रहते, यादें भी नहीं बसतीं,
                           यहाँ मेरे मुखौटे रहते हैं हिफाज़त से,
                           ताकि झट से पहन लूँ नया चेहरा,
                                 कहीं भी, कभी भी,
                              जिसकी जब भी ज़रूरत हो....
                           कभी ऊब जाओ अपने एकाकीपन से
                                तो आ जाना देखने,
                           मैंने उसी कमरे मे अपने मुखौटों की,
                                   प्रदर्शनी लगाई है......




3 comments:

राजीव कुमार झा said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट "हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच}" में शामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल {बृहस्पतिवार} 12/09/2013 को क्या बतलाऊँ अपना परिचय - हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल - अंकः004 पर लिंक की गयी है ,
ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें. कृपया आप भी पधारें, सादर ....राजीव कुमार झा

राजेंद्र कुमार said...

आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल गुरुवार (12-09-2013) को "ब्लॉग प्रसारण : अंक 114" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है.

moulshree kulkarni said...

राजीव जी एवं राजेंद्र जी… इस प्रोत्साहन तथा मेरी रचना को शामिल करने हेतु आभार...